Header Ads

26 जनवरी और 15 अगस्त का अंतर नही मालूम होगा आपको, जानिए सच्चाई

आइये जानिए क्या है स्वतंत्रता। 
स्वतंत्रता का सीधा सा मतलब ये हे की किसी भी व्यक्ति का अपने कार्य-व्यवहार में स्वतंत्र होना वो किसी के पराधीन नहीं होना चाहिए। व्यावहारिक तौर पे ये अर्थ है की व्यक्ति का एक ऐसी व्यवस्था में रहना जहा उसकी स्वतंत्रता ही उसका मौलिक अधिकार हो।

लंबे समय से हमने कुछ  प्राकृतिक अधिकारों को अपनाया है जैसे जीवन, विचरण, भरण-पोषण, निवास आदि।
इन सभी अधिकारो को सालो पहले राजा महाराजाओ ने अपनी राज-व्यवस्थाओं मे कानूनों मे जगह देकर इनको नागरिकों का अधिकार बनाया था। और दिसम्बर 1948 मे इन अधिकारो को संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवाधिकार घोषणापत्र मे जगह मिली।

इन अधिकारो मे व्यक्ति को खाने ,पहनने और रहने का पूरा अधिकार है कोई भी व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को पैसे के दम पर या बल के दम पर अपने आधीन नहीं कर सकता। यही असली माएने मे किसी व्यक्ति की स्वतंत्रता हे।

और भारत देश कई सालो तक अंग्रेज़ो के आधीन रहा तब हमे 15 अगस्त को आज़ादी मिली। इसलिए हम इस दिन को स्वतंत्रता दिवस के नाम से मनाते हे।
 

 
गणतंत्र का अर्थ
अब आते है गणतन्त्र दिवस यानि की 26 जनवरी जो की हमारे देश मे गणतन्त्र दिवस के नाम से मनाई जाती है।

गणतन्त्र का मतलब वो शासन पद्धति जिसे जनता चुने अपने लिए। यानि किसी तरह की तानाशाही न हो आम जनता के अधिकारो का हनन न होता हो। किसी व्यक्ति के अधिकारो का हनन न हो रहा हो। जहा पर सरकार जनता के अनुसार काम करे। हमारे देश में लोकतांत्रिक सरकार है और राष्ट्रपति का चुनाव होता है इसलिए यह गणतंत्रात्मक व्यवस्था है।

इस लिए 26 जनवरी को हमारे देश मे गणतन्त्र दिवस मनाया जाता है।  

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();