Header Ads

माइक्रोसॉफ्ट दे रही है डेढ़ करोड़ का इनाम आप भी ले सकते हैं आइए जानें कैसे

दिग्गज कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने हाल ही में एक कार्यक्रम में $250000 इनाम देने की घोषणा की यानी की सवा करोड रुपए के आसपास। क्या आपको पता है इस इनाम को देने के पीछे क्या वजह है चलिए हम आज बताते हैं दोस्तों माइक्रोसॉफ्ट ने हाल ही में Windows 10 का नया वर्जन मार्केट में उतारा है इसी नाम को जीतने के लिए आपको कंपनी के इस विंडोज 10 में बग निकालना है अगर आप इसे ढूंढने में कामयाब रहे तो माइक्रोसॉफ्ट आपको यह प्राइज मनी देगी।
माइक्रोसॉफ्ट ने बग खोजने वाले इस प्रोग्राम को विंडोज बग बाउंटी नाम दिया है। इस प्रोग्राम में आप करना सिर्फ इतना है कि Windows 10 के अंदर बग ढूंढना है। वह ढूंढने वाले व्यक्ति को 250000 डॉलर यानी की 16000000 रुपए का इनाम दिया जाएगा कंपनी के मुताबिक किसी भी महत्वपूर्ण बग कोड निष्पादन, विशेषाधिकार या डिजायन दोषों की उन्नति, जोकि ग्राहक की सिक्योरिटी और प्राइवेसी को खतरा पहुंचाए।
उसकी जानकारी देने पर यह इनाम दिया जाएगा दरअसल आपको बता दें कि यह पहली बार नहीं है कि माइक्रोसॉफ्ट बग ढूंढने के लिए कार्यक्रम आयोजित किया हो माइक्रोसॉफ्ट समय-समय पर ऐसे कार्यक्रम करती रहती है।माइक्रोसॉफ्ट कंपनी 2012 से यह इनाम दे रही है। यह इसलिए कर रही है क्योंकि वह अपने सॉफ्टवेयर को सुरक्षित बनाना चाहते हैं कंपनी का कर्ज अनुसार अगर कोई व्यक्ति ऐसा वक्त खोजता है जिसके बारे में माइक्रोसॉफ्ट को पहले से ही जानकारी है। तो उसे भी अधिकतम इनाम का 1035 दी यानी 1600000 रुपए दिए जाएंगे। बता दे कंपनी ने इस कार्यक्रम का आयोजन विंडो स्टैंड को सुरक्षित और बद मुक्त बनाने के लिए किया है। इसलिए कंपनी ने इतनी बड़ी धनराशि इनाम के तौर पर रखी है।

अकेले यह माइक्रोसॉफ्ट ही नहीं है जो इस तरह के कार्यक्रम आयोजित करता है।
 इसके अलावा Google Facebook एप्पल भी अपने सॉफ्टवेयर में वर्ग का पता लगाने के लिए ऐसे ही कार्यक्रम आयोजित करते हैं। Google ने अपने एंड्रायड ओएस में बग ने ढूंढ़ कर निकालने पर दो लाख डॉलर देने का ऐलान किया था ।हालांकि इस इनाम को अभी तक कोई जीत नहीं पाया है। क्योंकि गूगल का एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम अभी तक का सबसे सिक्योर Android सिस्टम ऑपरेटिंग सिस्टम है।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();