Header Ads

पादने के पीछे का सच बिलकुल नहीं जानते होंगे आप आइये जानिये

पादने के पीछे का सच बिलकुल नहीं जानते होंगे आप आइये जानिये




पाद का नाम आते ही सब अपना मुँह बिगाड़ लेते है। लेकिन हम सब पाद मारते है। कुछ लोगों को पाद मारने में शर्म नहीं आती और लोग शर्म के मारे पाद रोक लेते है। किसी किसी इंसान में पाद रोकने की शक्ति थोड़ी ज्यादा होती है और हमें पता नही चलता। तो आज हम आपको बताते है पाद के बारे में रोचक तथ्य जानते हैपाद में हम सभी जानते है यह ज्वलनशील होता है।जब पाद बाॅडी में बनकर तैयार होता है तो उस समय इसका तापमान 98.6;F होता है।कई बार पाद में बदबू आती है तो कई बार नहीं।नहाते समय पाद में से ज्यादा बदबू आती है, क्योकि हमारी नाक नमी में अच्छे से काम करती है।5. पाद, 59% नाइट्रोज़न, 21% हाइड्रोज़न, 9% काॅर्बनडाई-ऑक्साइडस, 7% मिथेन, 3% ऑक्सीज़न और 1% बकवास चीजों से मिलकर बना होता है।शायद कुछ ही लोगों को पता होगा पादने से BP कंट्रोल में रहता है और ये स्वास्थ्य के लिए अच्छा है।पाद रोकना आपकी सेहत के लिए हानिकारक शाबित हो सकता है क्योंकि कई बार ये गैस दिमाग में जाकर सिरदर्द का कारण बनती है। जो पाद रोक लिया जाता है वह नींद में पक्का निकलता है।ब्लू व्हेल के पादने पर जो बुलबुला बनता है वह इतना चौड़ा होता है कि उसमें एक घोड़ा आ सकता है।पृथ्वी पर मौजूद सभी जीव-जंतुओं में सबसे ज्यादा पाद दीमक (termites) मारता है। यह गाय से भी ज्यादा मिथेन छोड़ता है।मध्य युग में लोग पाद को जार में बंद करके सूंघते थे। उनका मानना था कि ऐसा करने से मौत से बचा जा सकता है। हैरानी की बात यह है कि कुत्तों के अंदर इतनी क्षमता होती है कि ये खुद का पाद भी देख सकते है।एक आम इंसान दिन में लगभग 14 बार पादता है और अपनी पूरी जिंदगी में लगभग 402,000 बार।पाद निकलने की स्पीड 10ft/sec होती है। यह केक पर लगी मोमबत्ती आसानी से बुझा सकता है।आजकल बाजार में ऐसी दवाईयाँ भी है जिसे खाने पर आपके पाद में से गुलाब और चाॅकलेट जैसी खूशबू आएगी।फ्लोरिडा में 13 साल के लड़के को स्कूल से बहुत ज्यादा पादने के कारण गिरफ्तार कर किया गया था।अंतरिक्ष मे जाने वाले यात्री पाद नहीं सकते, क्योंकि वहाँ पेट में द्रव्य से गैस को अलग करने के लिए गुरूत्वाकर्षण बल ही नही है।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();